What is On Page & Off Page Works in SEO

Latest 2017 SEO Tips in Hindi

 

ऑन पेज और ऑफ पेज एसईओ क्या है

जैसा की दोस्तों आप सभी जो एसईओ करते है या सीख रहे है वो अच्छी तरह से जानते होंगे की ऑन पेज और ऑफ पेज एसईओ क्या है लेकिन अगर आप नहीं जानते की ऑन पेज या ऑफ पेज एसईओ क्या है तो आपको यह जानना जरुरी है क्योकि इसी की मदद से आप ठीक तरह से जान पाएंगे की आप क्या काम कर रहे है और एसईओ का कौन सा काम किस जगह पर होना चाइये, जगह से हमारा मतलब ऑन पेज या ऑफ पेज के हिस्से से है

Off Page Seo

सबसे पहले हम बात करते है की ऑफ पेज या है, क्योकि यहाँ एसईओ का सबसे जरुरी पार्ट है इसीलिए हम पहले ऑफ पेज एसईओ की बात करते है, एसईओ में लगभग 70 प्रतिशत काम ऑफ पेज के हिस्से में आता है, साधारण शब्दों में हम पहले ये जानते है की ऑफ या ऑन का मतलब क्या है

दोस्तों जब भी आप किसी वेबसाइट या ब्लॉग पर एसईओ कर रहे है तो जो भी आप काम करते है या ब्लॉग वेबसाइट में बदलाव करते है, और बदलाव करने के तुरंत बाद ही आपकी वेबसाइट में बदलाव नज़र आ जाता है तो वह ऑन पेज है,
एक तरह से हम यह कह सकते है की वेबसाइट पर सीधे तौर पर काम करना ऑन पेज है,

इसके विपरीत अगर आप वेबसाइट पर ऐसा काम कर रहे है जिसको करने के बाद तुरत बदलाव नज़र नहीं आता तो वह ऑफ पेज है, ऑफ पेज एसईओ करने के लिए आपको वेबसाइट को खोलने या उसके पासवर्ड की जरुरत नहीं है, लेकिन ऑन पेज करने के लिए आपको वेबसाइट को खोलना पड़ता है, और साथ ही ऑन पेज वेबसाइट पर लाइव किया जाता है,

ऑफ पेज के उदहारण के लिए अगर आप वेबसाइट के लिए डायरेक्टरी या क्लासिफाइड करते है या फिर आर्टिकल पोस्ट करते है तो आपको बस आर्टिकल की वेबसाइट पर जाना है और आर्टिकल पोस्ट करना है, आर्टिकल पोस्ट करते वक्त आप बस वेबसाइट के लिंक को शेयर करते है, जिससे वेबसाइट खुलती है लेकिन आपको यहाँ वेबसाइट खोलने की कोई जरुरत नहीं पड़ती, इसलिए इसे ऑफ पेज एसईओ कहते है

What is On Page

अब समझते है ऑन पेज क्या होता है, ऑन पेज एसईओ में आपको सीधे तौर पर लाइव काम करना होता है, और यहाँ अगर आपने कोई गलती की है तो उसे साथ साथ ठीक करना जरुरी है क्योकि आपका किया हुआ एक भी बदलाव वेबसइट पर तुरंत चेंज हो जाता है,

उदाहरण के लिए अगर आपको वेबसाइट का टाइटल या डिस्क्रिप्शन चेंज करनी है तो आपको वेबसाइट को और उसके कण्ट्रोल पैनल को खोलना ही पड़ेगा, आप बिना वेबसाइट ओपन किये न ही टाइटल बदल सकते है और न ही उसे चेक कर सकते है,

यहाँ आपने टाइटल बदल कर चेंज किया और वह रीलोड करते ही वेबसाइट का टाइटल चेंज हो जाता है जो आने वाले यूजर को दिखता है, यहाँ आप गलती करेंगे तो फ़ौरन आपको ठीक करनी पड़ेगी, क्योकि ऑन पेज में किया हुआ सभी काम तुरंत बदलता है

Off Page Seo Ke Kaam

ऑन पेज और ऑफ पेज एसईओ क्या है

जैसा की दोस्तों आप सभी जो एसईओ करते है या सीख रहे है वो अच्छी तरह से जानते होंगे की ऑन पेज और ऑफ पेज एसईओ क्या है लेकिन अगर आप नहीं जानते की ऑन पेज या ऑफ पेज एसईओ क्या है तो आपको यह जानना जरुरी है क्योकि इसी की मदद से आप ठीक तरह से जान पाएंगे की आप क्या काम कर रहे है और एसईओ का कौन सा काम किस जगह पर होना चाइये, जगह से हमारा मतलब ऑन पेज या ऑफ पेज के हिस्से से है

सबसे पहले हम बात करते है की ऑफ पेज या है, क्योकि यहाँ एसईओ का सबसे जरुरी पार्ट है इसीलिए हम पहले ऑफ पेज एसईओ की बात करते है
एसईओ में लगभग ७० प्रतिशत काम ऑफ पेज के हिस्से में आता है, साधारण शब्दों में हम पहले ये जानते है की ऑफ या ऑन का मतलब क्या है

दोस्तों जब भी आप किसी वेबसाइट या ब्लॉग पर एसईओ कर रहे है तो जो भी आप काम करते है या ब्लॉग वेबसाइट में बदलाव करते है, और बदलाव करने के तुरंत बाद ही आपकी वेबसाइट में बदलाव नज़र आ जाता है तो वह ऑन पेज है, एक तरह से हम यह कह सकते है की वेबसाइट पर सीधे तौर पर काम करना ऑन पेज है, इसके विपरीत अगर आप वेबसाइट पर ऐसा काम कर रहे है जिसको करने के बाद तुरत बदलाव नज़र नहीं आता तो वह ऑफ पेज है,

ऑफ पेज एसईओ करने के लिए आपको वेबसाइट को खोलने या उसके पासवर्ड की जरुरत नहीं है, लेकिन ऑन पेज करने के लिए आपको वेबसाइट को खोलना पड़ता है, और साथ ही ऑन पेज वेबसाइट पर लाइव किया जाता है,

ऑफ पेज के उदहारण के लिए अगर आप वेबसाइट के लिए डायरेक्टरी या क्लासिफाइड करते है या फिर आर्टिकल पोस्ट करते है तो आपको बस आर्टिकल की वेबसाइट पर जाना है और आर्टिकल पोस्ट करना है, आर्टिकल पोस्ट करते वक्त आप बस वेबसाइट के लिंक को शेयर करते है, जिससे वेबसाइट खुलती है लेकिन आपको यहाँ वेबसाइट खोलने की कोई जरुरत नहीं पड़ती, इसलिए इसे ऑफ पेज एसईओ कहते है

 

Works is On Page Seo

एसईओ करते वक्त आपको पहले ऑफ पेज करना है जो की लगभग २ महीने तक करना है, उसके बाद ही आपकी वेबसाइट को निश्चित बैकलिंक मिल पाएंगे या आपकी वेबसाइट के पेज सर्च इंजन में दिखाई देंगे,

ऑफ पेज एसईओ करने के बाद आपको वेबसाइट के लिए ऑन पेज करना है जो की सिर्फ ३० प्रतिशत होता है लेकिन इसका मतलब आप ये न समझे की यह जरुरी नहीं है,

ऑफ पेज में आने वाले काम

Directory Submission
Social Bookmarking Sites
Article Submission
Commenting Stretergy
Social Networking Sites
Photo Sharing Sites
Post in Forums
Guest Posting
Link Exchange
Document/PDF Sharing
Classified Submission

ऑन पेज में आने वाले काम

Page Titles
Meta Descriptions
Meta Tags
URL Structure
Body Tags
Keyword Density
Image SEO
Internal Linking

4 thoughts on “What is On Page & Off Page Works in SEO

  1. Daarshikkarthick Reply

    It’s the best time to make some plans for the future and it is time to be happy. I’ve read this post and if I could I want to suggest you few interesting things or suggestions.You can write next articles referring to this article. I desire to read even more things about it..

    • Neeraj Post authorReply

      Thank for the Comment, i have read you blog too, you have written very good, but you should apply new theme..

  2. adeel Reply

    Especially the On page techniques are more to be focused that helps the search engine to crawl the websites easily. Thanks for the information.

Leave a Reply