What is SEO | Basic SEO Tips

seo kya hai

 

SEO क्या है What is SEO

इस पोस्ट से आपको पता चलेगा की SEO क्या होता है, SEO की बेसिक जानकारी और इसका इस्तेमाल कैसे करते है, आप यहाँ जान पाएंगे की किस तरह SEO से अपनी वेबसाइट की रैंक बढ़ाते है और अपने वेबसाइट या ब्लॉग पर ट्रैफिक लेकर आते है.

 

Why Use SEO

इसईओ क्या है और इसकी जरुरत क्यों पड़ती है

आज की दुनिया में ऑनलाइन बिज़नस ज्यादा सक्सेस है औए लगभग हर दिन कोई न कोई नया ऑनलाइन बिज़नस स्टार्ट हो रहा है और हो सकता है आप भी किसी दिन अपना कोई ऑनलाइन बिज़नस शुरू करने जा रहे हो, लेकिन अगर आपने कोई बिज़नस शुरू कर भी लिया तो सवाल अब आता है कॉम्पिटिशन पर

बाकी सभी ऑनलाइन बिज़नस से आगे जाने के लिए आपको SEO की जरुरत पड़ती है, सर्च इंजन में अपनी वेबसाइट को टॉप पर लाने के लिए SEO किया जाता है

seo kyo istemal kiya jata hai

उदाहरण के लिए आपको जब किसी वास्तु की जरुरत होती है या आप उसे ऑनलाइन खरीदते है तो गूगल पर सर्च करने के बाद हजारो लाखो वेबसाइट गूगल पर आती है लेकिन जो वेबाइट पहले और दूसरे पेज पर आती है उन वेबसाइट का SEO किया जाता है, इसीलिए वो वेबसाइट गूगल पर टॉप रैंकिंग में आती है

आप भी अपनी वेबसाइट की रैंकिंग SEO के जरिये अच्छी कर सकते है, लेकिन उसके लिए आपको जरुरत है SEO को अच्छे से समझने की

 

Parts of SEO

SEO के मुख्य तौर पर दो भाग होते है
ON Page & OFF Page SEO – ऑन पेज और ऑफ पेज

SEO के दोनों ही भाग बराबर क्षमता रखते है ऑन पेज SEO का काम सिर्फ 30 प्रतिशत होता है लेकिन ऑन पेज को ज्यादा इम्पोर्टेंस दी जाती है

ऑन पेज SEO में हम अपनी वेबसाइट पर चेंजेस करते है और अपनी वेबसाइट को सर्च इंजन के नियमो के हिसाब से तैयार करते है, ताकि कोई भी सर्च इंजन का क्रॉलर वेबसाइट पर आये तो उसे वेबसाइट में कमी न दिखे

कम शब्दो में हम ये भी कह सकते है के ऑन पेज SEO में हम जो भी चेंज करते है वो सीधा लाइव वेबसाइट पर चेंज होता है

इसी तरह ऑफ पेज SEO में हम 70 प्रतिशत काम करते है लेकिन वह काम हम वेबसाइट को बंद करके या बिना उसे देखे भी कर सकते है, जिसका वेबसाइट से लाइव कनेक्शन नहीं होता

 

अब हम विस्तार से जानेगे ऑन पेज के काम

1. Title Tag – वेबसाइट का टाइटल

वेबसाइट का टाइटल टैग बहुत अहम् होता है क्योकि यह सर्च इंजन और यूजर्स दोनों को बताता है वेबसाइट किस बारे में है और वेबसाइट पर किस तरह का बिज़नस होता है
वेबसाइट के टाइटल की कैरेक्टर लिमिट 53 से 70 की होती है कोशिश करे की टाइटल की लिमिट में ही एक बेहतर टाइटल बनाया जाए|

१. ऐसे टाइटल से बचना है जिसका वेबसाइट से कोई लेना देना नहीं है
२. हर पेज के लिए एक अलग टाइटल बनाये, ताकि सर्च इंजन आपकी वेबसाइट के हर पेज को अच्छे से समझे
३. अपने बिज़नस के एक शब्द अपने टाइटल में जोड़े, पर ध्यान रहे के आपके वेबसाइट के टाइटल बाकी सभी वेबसाइट से कॉपी ना किये हुए हो !
४. एक ही शब्द को बार बार टाइटल में इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

उदाहरण के लिए
SEO in Mumbai | Mumbai SEO | Best SEO in Mumbai

इस तरह अगर आप बार बार एक ही शब्द अपने टाइटल में इस्तेमाल करेंगे तो यह स्पैम (SEO के नियम के खिलाफ ) होगा

2.Meta Description – हर पेज के लिए संशिप्त शब्दो में विवरण

मेटा डिस्क्रिप्शन का इस्तेमाल वेबसाइट का ब्यौरा देने के लिए होता है, मेटा डिस्क्रिप्शन की कैरेक्टर लिमिट 140 से 160 होती है, हम इससे ज्यादा शब्दो का इस्तेमाल भी कर सकते है लेकिन 160 कैरेक्टर से ज्यादा सर्च इंजन नहीं पड़ता !

Best Practices
१. कोशिश करे के वेबसाइट से मिलती जुलती जानकारी ही अपने डिस्क्रिप्शन में लिखे.
२. हर पेज की डिस्क्रिप्शन अलग लिखे, पिछले किसी पेज में इस्तेमाल किये गए शब्दो का इस्तेमाल बार डिस्क्रिप्शन में ना करे.
३. 160 कैरेक्टर में अपने बिज़नस को समझाने की कोशिश करे

 

3. URL Structure

वेबसाइट के लिंक आपको और यूजर को समझाने के लिए जरुरी है की आपकी वेबसाइट के सभी पेज के लिंक्स आसान और ठीक तरह से बनाये गए हो

अगर आपकी वेबसाइट के पेज के लिंक कुछ इस तरह होंगे तो ना उसेर्स उसे याद कर पायेगा ना ही सर्च इंजन उसे समझ पायेगा, ये आपकी वेबसाइट की रैंक के लिए जरुरी है

For Example
http://www.google.com/contactus/id=342 – This is Wrong

http://www.google.com/contact-us/ – This is Right

बेस्ट प्रैक्टिस
१. कोशिश करेंगे की यूआरएल में पेज का लिंक यूज़ करेंगे, जैसे कांटेक्ट उस पेज के लिए .com/Contact-us.html
२. लिंक ज्यादा बड़ा ना हो, छोटा लिंक आसानी से याद होता है

 

4. Website Structure – यूसर्स के लिए अपनी साईट को आसान बनाये

ध्यान रहे की आपकी वेबसाइट का टेम्पलेट डिज़ाइन इस तरह हो की वेबसाइट पर आने वाले यूसर्स को आसानी से अपना लक्ष्य मिल सकते, हर कंटेंट को उसी जगह पर रखे जहा उसकी जगह हो, उदाहरण के लिए – अगर कोई यूजर आपकी वेबसाइट पर आता है और कोई प्रोडक्ट खरीदना चाहता है लेकिन यूज़ ये समझ नहीं आ रहा की रजिस्टर कहा से किया जाए तो या तो वह ढूंढे के लिए वक्त लेगा या फिर आपकी वेबसाइट को बंद करके किसी दूसरी वेबसाइट पर चला जायेगा

बेस्ट प्रैक्टिस
१. वेबसाइट का डिज़ाइन बेहतर लेकिन स्ट्रक्चर सिंपल लेंगे, जिससे यूजर को आसानी से अपना लक्ष्य मिले
२. हटमल साइटमैप का ऑप्शन रखेंगे ताकि कोई लिंक ढूंढने में प्रॉब्लम ना हो
३. बहुत ज्यादा पेज बनाने से बचना चाहिए, सिर्फ उतने पेजेज ही बनाये जिनकी जरुरत हो
लेकिन अगर आपकी वेबसाइट का स्ट्रक्चर अच्छा होगा और समझने में अच्छा होगा तो किसी यूजर को प्रोडक्ट ढूंढने की कोई प्रॉब्लम नहीं होगी

5. Bold Keywords – जरुरी शब्दो को दिखाना

वेबसाइट के जो शब्द जरुरी है उन्हें बोल्ड किया जाना चाहिए, जिससे यूज़र्स का अटेंशन उन शब्दो पर बना रहे

 

6. Website Speed – वेबसाइट के स्पीड

वेबसाइट के स्पीड भी एक अहम् हिस्सा है न पेज SEO का, अगर आपकी वेबसाइट धीरे खुलती है तो इसकी वजह से आपके बिज़नस को नुक्सान हो सकता है, कोई भी यूसर स्लो वेबसाइट पर २ मिनट से ज्यादा नहीं रुकता!

how to Improve Website Speed

 

वेबसाइट की स्पीड स्लो क्यों होती है और इसे किस तरह से ठीक किया जाए उसके लिए यहाँ पढे

 

7. Heading Tag – शब्दो को क्षमता के अनुसार लगाना

H1, H2 – H3 ये सभी हैडिंग टैग जरुरत के हिसाब से इस्तेमाल किये जाते है, इनका मतलब है के आपकी वेबसाइट के मुख्य शब्दो को आप ह्१ टैग स्टाइल से लगा कर दिखा सकते है

 

8. Post Length – पोस्ट की लंबाई

पोस्ट की लंबाई महत्वपूर्ण हिस्सा है न पेज SEO का, आपको हर पेज में शब्दो की लंबाई का ध्यान रखना होगा, पोस्ट जितना लंबा हो उतना ही अच्छा है सर्च इंजन के लिए, लेकिन आपको इस बात का भी ध्यान रखना होगा की पोस्ट सिर्फ इतना ही लंबा हो की उसे पड़ते वक्त कोई यूजर बोर न हो, अगर आपका पोस्ट बहुत लंबा है तो आपको पोस्ट के बीच बीच में रुकने ( टैग्स और इमेज लगाने ) की जरुरत है.

 

9. Keywords Density – कीवर्ड डेंसिटी

कीवर्ड डेंसिटी और पोस्ट लेंथ लगभब आपस में जुड़े हुए है, आपकी वेबसाइट के हर पेज में आप जो भी पोस्ट करते है या उसके कंटेंट जो आप बनाते है, उस पोस्ट में आपको ध्यान रखना है के एक ही शब्द बार बार इस्तेमाल न हो,

उदहारण के लिए 50 शब्दो के एक वाक्य में यदि आपने “इस्तेमाल” शब्द का 5 बार किया तो यह सारे वाक्य का ५ प्रितशत हो हो गया, तो आपको यह ध्यान रखना है की किसी भी शब्द का उपयोग बार-२ नहीं करना !

 

10. Responsive Website – रेस्पोंसिव वेबसाइट

हाल में ही गूगल सर्च इंजन ने अपने नियमि में कुछ बदलाव किये है, जिसमे वेबसाइट का डिजाइन सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा माना गया है, गूगल के नए नियम के अनुसार अगर आपकी वेबसाइट सिर्फ कंप्यूटर पर ठीक तरह से खुलती है लेकिन मोबाइल पर ठीक नहीं खुलती तो इसे आपको ठीक करना होगा नहीं तो आपकी वेबसाइट को गूगल अपने सर्च इंजन रिजल्ट में नहीं दिखायेगा, या अगर दिखायेगा तो आपकी वेबसाइट को गुणवत्ता नहीं देगा और पीछे के पेजेज में दिखायेगा

 

11. Alt Tag

अगर आपको ये लगता है की गूगल या कोई भी सर्च इंजन इमेज को रीड नहीं करता तो आपका सोचना गलत है, दरअसल सर्च इंजन इमेज के ऊपर लिखे हुए कंटेंट भी रीड कर सकता है, सर्च इंजन के पास अपना खुद का ओ सी आर सॉफ्टवेर होता है जिसकी वजह से यह इमेज के कंटेंट पढ़ सकता है, लेकिन उससे पहले यह इमेज को उसके ऑल्ट टैग से ढूंढता है, ऑल्ट टैग इस ई ओ का ही एक हिस्सा है, जिसकी मदद से हम अपने वेबसाइट की इमेजेज को सर्च इंजन के लिए उपयोगी बनाते है

 

12. Sitemap – वेबसाइट के सभी पेजो की सूची

साइटमैप एक जाल की तरह फैली हुए सभी तारो की एक सूची है जिसमे लिखा होता है की कौनसा तार किस जगह से जुड़ा हुआ है, साइटमैप सर्च इंजन के लिए होता है, जब भी कोई सेरकग इंजन किसी वेबसाइट पर आता है तो सर्च इंजन वेबसाइट के सभी पेज पर न जाकर सीधा साइटमैप पर जाता है और वह से चैक करता है की कौनसा पेज किस जगह है और उसका लिंक कहा से जुड़ा हुआ है, और वेबसाइट पर टोटल कितने पेज है!

उम्मीद है आपको यह पोस्ट अच्छा लगा होगा, क्योकि पोस्ट ज्यादा लंबा न लगे इसलिए हमने इस पोस्ट को दो भागो में बांटा है, सेव का अगला काम यानी ऑफ पेज के लिए यहाँ क्लिक करे

Works in Off Page SEO

2 thoughts on “What is SEO | Basic SEO Tips

  1. Leena Agarwal Reply

    Nice post, lekin thoda sa bada lag raha hai, aapko shirtcut me jaldi jaldi points likhne chahiye

    • Neeraj Post authorReply

      कमेंट के लिए थैंक्स, लेकिन हम सभी पोस्ट को उनके महत्व के हिसाब से ही लिखते है।

      यह पोस्ट इसलिए बड़ा लग रहा है क्योंकि हमें एक ही पोस्ट में सारे पॉइंट शेयर किए है….

Leave a Reply